MP News :Strange Squirrel Gave Birth To Child In Ganpati Idol Indore

mp news

MP News :Strange Squirrel Gave Birth To Child In Ganpati Idol Indore

इंदौर। अनंत चतुर्दशी के दिन देशभर में गजानन को विदा किया गया, लेकिन इंदौर के एक पंडाल में कुछ ऐसा हुआ जिसके चलते गणपति अभी तक विसर्जन का इंतजार कर रहे हैं। कृष्णपुरा छत्री के पास विराजे ‘बाहुबली गणेश’ पंडाल में जब भक्त जन ढोल-ताशों के बीच जब आरती कर विसर्जन की तैयारी कर रहे थे, तभी प्रतिमा से नन्ही गिलहरियों के चहकने की आवाज आई। भक्तों ने जब ध्यान से देखा तो पता चला कि लंबोदर की सूंड में एक गिलहरी ने बच्चों को जन्म दिया है। नन्ही गलहरियों की हिफाजत के लिए मंडल सदस्यों ने गजानन के विसर्जन को अभी टाल दिया है।

– कृष्णपुरा छत्री के पास श्री योगीबाबा बम- बम नाथ सेवा समिति ने पंडाल लगातार गजानन की स्थापना की थी। समिति ने मिट्टी से बने श्यामवर्णीय लंबोदर को बाहुबली गणेश का नाम दिया था।

– आयोजन समिति के चंद्रशेखर और दीपेश पचौरी ने बताया हमने मिट्टी की प्रतिमा स्थापित की थी। इसका विसर्जन पंडाल में ही किया जाना था। अनंत चतुर्दशी के दिन जब हम विसर्जन की तैयारी कर रहे थे, तभी अचानक हमारा ध्यान लंबोदर की सूंड की तरफ गया। उनकी सूंड में सूखी घास का ढेर लगा था। यह देख हमें आश्चर्य हुआ कि यहां घास कहां से आ गई।

– इसके बाद हमने घास को निकालने के लिए हाथ आगे बढ़ाया तो किसी के चहकने की आवाज आई। इस पर हमने भीतर झांका तो प्रकृति का चमत्कार हमारे सामने था। गणपति जी की सूंड में गिलहरी के नन्हें बच्चे चहक रहे थे। दरअसल गिलहरी ने मूर्ति की सूंड में घर बनाकर बच्चे दे दिए थे।

– यह देखकर हमने यह तय किया कि जब गजानन की सूंड पर इनका जन्म हुआ है तो फिर हम कौन होते हैं इन्हें यहां से हटाने वाले। इसलिए जब तक गिलहरी के बच्चे बड़े नहीं हो जाते हम विसर्जन नहीं करेंगे। समिति के सदस्यों ने यह तया किया है कि गिलहरियों को सुरक्षित करने के बाद मूर्ति विसर्जन का नया मुहूर्त निकाला जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *